Thank You so much for landing here, and giving your precious time to read my blog.
Your comments will appreciate me more, so feel free to drop your views on my post :)

Search Books

Friday, 28 September 2012

फिर किसी मोड़ पर

बहुत  मुश्किल होता हे अपनों के बिना जी पाना ,, खास कर वो अपने जो ज़िन्दगी बन जाते हे।।।
पर ज़िन्दगी के इस सफ़र में कई मोड़ आते हे और अक्सर हम अकेले रह जाते हे ... जीना तो पड़ता ही हे और आगे भी बढना पड़ता हे ... रह जाती हे तो बस कुछ यादें ...
कुछ धुंदली सी ....
कुछ फीकी सी।।


और कुछ समय बाद हम यह कह उठते हे की  Aasan tha tujhe bhul jana......

वो गहरे वादे और उन्ही में पनपती मेरी ज़िन्दगी।।
खुद ही से सवाल पूछ लेते हे हम अक्सर की किसकी ज्यादा दीवानी हूँ मैं??
कौन अधिक प्रिय है मुझे????
 

और फिर यादों का एक काफिला चलता हे  Tere jane aur aane ke bich....
 
यकीं ही नहीं होता अक्सर,, न ही दिल इसे मानने को तैयार होता हे ,, पर सच्चाई तो यही हे की तुम अब नहीं हो .... कही नहीं।।।


इन टिमटिमाते तारो में
जब कोई जगमगाएगा ,,
फिर किसी मोड़ पर एक दिन 
मुझको मेरा ये प्यार याद आयेगा।।।

होगी न फिर कभी ये चाहते 
न कोई पलकों पे फिर बेठ पायेगा ,,
मुस्कुराते फूलो की महक में 
न कोई चेहरा बस पायेगा।।।

आसुओं की इस बारात में 
न कोई दुल्हन की तरह सज पायेगा ,,
किनारों की इन लहरों सा सिमट कर 
एक दिन मेरा ये एहसास रह जायगा।।।

 इन आखो में जब कभी 
फिर किसी का इंतजार नज़र आएगा ,,
ज़िन्दगी के उसी मोड़ पर एक दिन 
मुझको मेरा ये प्यार याद आयेगा।।।  



Special Thanks to Anu Di 
for permitting me to link her posts here...

~नूपुर~ 

15 comments:

  1. Very beautiful poem ... loved it !!!

    ReplyDelete

  2. its my pleasure too noopur....
    :-)

    god bless you noopur.....
    love
    anu

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks for all your blessings and the lovely contribution :)

      Delete

  3. सार्थक और सामयिक पोस्ट, आभार.
    मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" पर आप सादर आमंत्रित हैं.

    ReplyDelete
  4. heads off noopur
    bahut hi shandar
    awesome written heart touching lines :)

    ReplyDelete
  5. Mareeje ishak par laanatt Khuda ki
    marj barta gya juon juon dava ki.

    By God's grace, Love is a strange disease
    More U cure more U become....ill-at-ease!!

    ReplyDelete
  6. Sorry I forgot to write my address :

    snatsleepwalkers.wordpress.com

    ReplyDelete
  7. Thnks everyone for the valuable response... :)

    ReplyDelete
  8. heads off noopur....
    very nice and heart touching...

    ReplyDelete